Aatamaabhivyakti

extremely CRUDE ; completely PURE

245 Posts

3097 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9545 postid : 1319813

टूटते तारे पर दुआ contest

Posted On: 25 Mar, 2017 Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

टूटता तारा देख लब पर एक दुआ आई
तारा आँचल में था गोद में परी मुस्काई .
यह हमारे समाज का कटु सत्य है कि बेटी के जन्म की कल्पना ही परेशान कर देती है .हालांकि वर्त्तमान पीढी में यह सोच बहुत कम हो गई है पर मेरी माता जी बताती हैं कि जब पहले से ही घर में अधिक संख्या में लड़कियों के होने के माहौल में जुड़वां स्त्रीलिंग बच्चों में से एक के रूप में मैंने जन्म लिया तो पिता को शिकन नहीं था पर माता जी परेशान हो गई थीं और उनसे भी ज्यादा परेशान बाबा हुए थे .इतनी लड़कियों की शिक्षा और विवाह का खर्च कैसे संभव होगा .इस चिंता में घर के बूढ़े बुजुर्ग परेशान हो गए थे.हम सभी बहनें पढने में दोनों ही भाईयों से काफी अच्छे थे .परंतु बाबा की सख्त हिदायत थी कि विज्ञान की शिक्षा चूँकि बाहर भेजने की वजह से महंगी होगी अतः हमें सिर्फ दसवीं तक ही पढ़ा कर विवाह कर दिया जाए .वे पिता को डांटते कि लड़की को लाट साहब बनवाना है क्या …इन्हें क्यों उच्च शिक्षा दी जाए ?? माता पिता बाबा का बहुत सम्मान करते थे .उनकी बातों को अगर ना भी मानें तो कभी भी जवाब तलब नहीं करते थे .मुझे याद है एक बार विद्यालय का वार्षिक उत्सव था .चूँकि विद्यालय में गत वर्ष के पारितोषिक बांटे नहीं जा सके थे अतः दो वर्षों के सभी प्रतियोगिताओं के पारितोषिक उसी वर्ष दिए गए .निबंध लेखन,वाद विवाद ,आशुभाषण और कक्षा परिणाम फल के दोनों वर्ष के पारितोषिक की संख्या मिला कर मुझे कुल आठ पारितोषिक मिले थे .माँ और पिता खुश थे पर बाबा को दुःख था कि उनके छोटे पोते ने कोई पारितोषिक क्यों नहीं जीता .छोटा पोता जिसके इंतज़ार में हम चार बहनें अनचाहे ही परिवार को बड़ा कर गई थीं .पिता ने कहा ,” बाबा के पैर छूकर आशीर्वाद ले लो “पर पास जा कर चरण स्पर्श करने पर बाबा बगैर आशीष दिए उठ कर बाहर यह कहकर चले गए कि चहलकदमी के लिए जा रहा हूँ.मेरे किशोर मन में यह बात घर कर गई थी .मैंने उसी वक़्त ठान लिया था कि बहुत अच्छी तरह पढ़ाई करूँगी .और विवाह होने पर एक ही संतान रखूंगी और वह पुत्री ही हो . .हालांकि मेरी पुत्री के जन्म पर स्वयं मेरी आँखों में आँसू आ गए थे .तब मेरे ससुर जी ने लगभग डांटते हुए कहा था ,”बेटी होने पर रो रही हो तो याद रखना मेरे यहां बहू बेटियों का बहुत मान होता है.” मैंने कहा ,”नहीं मैं आपरेशन के दर्द से विचलित हूँ “जबकि मैं यही सोच रही थी कि कहीं मेरी तरह बिटिया को भी परवरिश और शिक्षा के लिए भेद भाव का सामना ना करना पड़े .उसी वक़्त ससुर जी ने कहा ,”यह बिटिया एक चिकित्सक बनेगी .”मैंने भी ठान लिया यह मेरी पहली और आख़िरी संतान होगी .हालांकि एक परम्परा वादी परिवार के लिए मेरा यह फैसला बहुत नाराज़ करने वाला था ..उससे सम्बंधित प्रत्येक अच्छी बात पर घर के पुरुष तो मुझे प्रेरित करते पर स्त्रियां बहुत विपरीत प्रतिक्रिया देती .उसे हॉस्टल भेजने के दौरान विरोध होने लगा पर हमने उसे अच्छी से अच्छी शिक्षा दिलाई .बिटिया ने दसवीं बारहवीं दोनों में ही टॉप किया था .मैंने और पतिदेव ने उसे मेडिकल की कोचिंग के लिए कोटा के एलेन संस्थान भेजा .इस दौरान मैं सिर्फ एक बार ही उससे मिलने कोटा गई .बातों ही बातों में अपने प्रति किये भेद भाव को व्यक्त कर उसे उसके लक्ष्य के लिए बहुत प्रेरित किया .यह उसकी माँ की शिक्षा के प्रति बाबा द्वारा किये भेदभाव के वाक्ये पर उपजा आक्रोश और क्षोभ था या स्वयं को साबित करने जूनून या फिर माता के प्रति उसकी गहरी संवेदनशीलता ; उसने अपने मक़सद को बहुत ही गंभीरता से लिया .प्रथम ही प्रयास में अच्छे रैंक से सरकारी मेडिकल संस्थान में प्रवेश पा लिया .जो भेद भाव मैंने अपने बाबा से पाया था मेरी बिटिया के बाबा ने उस भेदभाव की आंच मेरी बेटी पर नहीं पड़ने दी .आज वे इस दुनिया में नहीं हैं पर उनकी सोच एक निश्चित राह पर आगे बढ़ गई है .मेरी बिटिया एक न्यूरो सर्जन बनना चाहती है.मैं उसकी सफलता में अपने प्रति किये भेद भाव के दर्द को भूल जाती हूँ.आज घर पर सभी लड़कियां बाहर पढ़ से पढ़ कर अच्छी नौकरी कर रही हैं .जो छोटी हैं वे शहर के अच्छे स्कूल में पढ़ रही हैं .पर बाबा के उस भेद भाव को मैं कभी भूल नहीं पाती .

यमुना पाठक



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sinsera के द्वारा
March 31, 2017

यमुना जी बेटी के बारे में जान कर बहुत ख़ुशी हुई. घर का माहौल और संस्कार ही बच्चों की दिशा तय करते हैं. डॉक्टर बिटिया की माँ होने के लिए मेरी बधाई स्वीकार करिये.

    yamunapathak के द्वारा
    April 1, 2017

    प्रिय सरिता जी सप्रेम नमस्कार ईश्वर की असीम कृपा ,आप सबों की शुभकामना और बड़ों का आशीर्वाद सदा उसके साथ रहे .समाज को एक अच्छा डॉक्टर मिले यही शुभेच्छा है .आपका बहुत बहुत आभार

sadguruji के द्वारा
March 31, 2017

आदरणीया यमुना पाठक जी ! सादर अभिनन्दन ! बेहद मार्मिक और प्रेरक अनुभव ! बिटिया एक सफल न्यूरो सर्जन बने ! बहुत बहुत शुभकामनाएं ! सादर आभार !  

    yamunapathak के द्वारा
    April 1, 2017

    आदरणीय सदगुरू जी सादर नमस्कार आपकी शुभेच्छा के लिए बहुत बहुत आभार .कभी कभी मन डरता भी है .पर ईश्वर पर बहुत विश्वास है .जो हर क्षण साहस देता रहता है. साभार

mrssarojsingh के द्वारा
March 27, 2017

यमुना जी .खूसूरत अभिव्यक्ति के लिए बधाई स्वीकार करें….

    yamunapathak के द्वारा
    March 31, 2017

    आदरणीय सिंह जी आपका अतिशय आभार

Bhola nath Pal के द्वारा
March 27, 2017

यमुना पाठक जी !अभिव्यक्तियों का सुन्दर चित्रण और भाव भी …………

    yamunapathak के द्वारा
    March 27, 2017

    आदरणीय सर जी सादर प्रणाम आप ब्लॉग पर आये .हमें बहुत खुशी हुई. आपका अतिशय आभार

Shobha के द्वारा
March 27, 2017

प्रिय यमुना जी जागरण ने ऐसा विषय दिया है जो लगभग महिला समाज का ख़ास दर्द है हम भी चार बहने हैं दादी हर लड़की के जन्म पर कहती थीं यह न मेरे आगे कोई न हो माँ तो डेंटन में जीभ की तरह रहती थीं परन्तु हमारे पिता जी को बेटियों का गुमान था बड़े प्यार लाड से पाला उनकी जल्दी ही मृत्यू हो गयी हम बहने बस मर ही गयीं हंसी गायब हो गयी माँ ने सम्भाला मेरी छोटी बहन का मेडिकल दिल्ली में दाखिला हो गया था छोटे भाई का मोती लाल इंजीनियरिंग कालेज में आगे वः पढ़ नहीं सके बहन और भाई ने बीएससी की पिता हमारी गार्जियन सोल बन गए अब तो सब कुछ है हाँ हमारी आगे की पीढ़ी की बेटियां मेरी बेटी हार्वर्ड बी स्कुल की पोजिशन होल्डर हैं एक पटकथा लिखती है डायरेक्शन करती है की फिल्मों में राम लीला और सर्वजीत और भी कई उम्र केवल ३४ वर्ष आगे और बच्चियां हमारी जान हैं

    yamunapathak के द्वारा
    March 27, 2017

    आदरणीय शोभा जी सादर नमस्कार आपकी बच्चियों के विषय में जान कर मैं बहुत गर्व महसूस कर रही हूँ .सच है हम अपने बच्चों को एक जिम्मेदार नागरिक बना कर देश समाज परिवार को योगदान दे सकते हैं .आपसे मुझे बहुत प्रेरणा मिली . आपका बहुत बहुत धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran