Aatamaabhivyakti

extremely CRUDE ; completely PURE

236 Posts

3044 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9545 postid : 1310805

चांदी की साइकिल सोने की सीट

Posted On: 30 Jan, 2017 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दोस्तों , कई फिल्मों के सीन और गाने याद आ रहे हैं.हीरोइन अपनी सहेलियों के साथ साइकिल पर पिकनिक पर जाती है …साइकिल पर सवार हीरोइन के पीछे हीरो गीत गाता है …हीरोइन कभी गुस्सा होती है …कभी गिर जाती है …और कभी कभी तो दोनों ( गोविंद और जूही चावला ) साथ में साइकिल की सवारी करते हुए गाते हैं …
चांदी की साईकिल सोने की सीट …आओ चलें डार्लिंग चलें डबल सीट .
हम भी जवान हैं तुम भी जवान हो बोलो जी बोलो चलना कहाँ है “

अब साइकिल की सवारी का मज़ा ही कुछ और है.शुरू शुरू में गिर जाने पर चोट भी आती है .पर गिरने के डर से कोई साइकिल की सवारी छोड़ दे ये बात तो हज़म नहीं होती ज़नाब .यही तो एक वाहन है जो प्रदूषण भी नहीं करता और व्यायाम में भी मदद कर शारीरिक मानसिक स्वास्थय बनाये रखता है .कई देशों में तो लोगों ने नो कार डे की घोषणा कर साइकिल की सवारीको प्रदूषण रोकने का प्रतीकात्मक अभियान बनाया है.और हाँ हवा में साइकिल चलाना एक विशेष प्रकार का व्यायाम है.
जब दो यूथ आइकॉन एक साथ साइकिल की सवारी की तरफ बढ़ जाएं तो परिवार समाज क्या देश विदेश के लोगों की नज़र टिक जाती है.एक तो युवा उस पर से एक साथ सवारी वह भी साइकिल की जबकि युवा तो तेज़ रफ़्तार बाइक की सवारी पसंद करते हैं.साइकिल की सवारी में हेलमेट की भी ज़रुरत नहीं पड़ती .ट्रैफिक चालान भी नहीं कटता .चलाते वक़्त गिर जाएं तो चोट भी जान लेवा नहीं होती .अर्थात साइकिल की सवारी सुन्दर सुहानी सुखद सस्ती और सुरक्षित है इसमें कोई दो राय नहीं . यहां तो आम के आम गुठलियों के दाम जैसी बात के भी आगे की कोई बात जैसी दिख रही है..यूँ भी साइकिल को हाथी का नहीं हाथ का ही साथ चाहिए होता है .अब बेबी को बेस पसंद है साइकिल को हाथ का साथ पसंद है .हाथी पर साइकिल तो रखी जा सकती है पर साइकिल पर हाथी रखना यह तो खेल खिलौनों से ही संभव है .कोरी काल्पनिक बात .सच पूछो तो यही तो एक वाहन है जो बगैर ईंधन के इंसानों के हाथ पैर से ही चल पड़ता है.’हल्दी लगे ना फिटकरी और रंग चोखा आये ‘और इसे चलाना आना चाहिए …अरे !! साहब यह भी ज़रूरी नहीं क्योंकि हाथ हैंडल पकड़ कर बैठे रहे ज़रुरत पड़ने पर घंटी बजाते रहे तो भी सफर तो सुहाना हो ही जाता है .यूँ कि हैंडल पकड़ कर बैठने वाले हाथ को साइकिल चलाने वाले का साथ जो है .’जो सफर प्यार से कट जाए वो प्यारा है सफर …नहीं तो दर्द शोखेदार का मारा है सफर ‘और फिर यह प्यार गंगा यमुना के संगम की तरह एकाकार हो तो आसमान भी ज़मीन को झुक जाए .और फिर साइकिल तो कभी कभी हाथ छोड़ कर भी चलाई जाती है .थोड़ा स्टंट भी तो बनता है .
साइकिल में दो पहिये तो उसकी संरचना की प्रथम शर्त है और दोनों पहियों के बीच फासले की भी शिकायत ज़ायज़ नहीं यह भी संरचना की ही शर्त है.अगर दोनों पहियों की जैविक उम्र की बात करें तो बस ४६ और ४३ यानी तीन का ही फासला है.और जो दोनों पहियों के कार्यकारी आयु देखें तो १२ और १६ यानी चार वर्ष का फासला है .और ये फासला ना हो तो साइकिल चले कैसे ??? ये फासले तो साइकिल की आधारभूत संरचना की मांग हैं .
चलिए सब मिलकर गुनगुनाते हैं ….
आओ चलें डार्लिंग चलें डबल सीट .



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
February 6, 2017

आदरणीय यमुना पाठक जी ! बेहद रोचक और आम राजनीतिक लीक से अलग हटकर लिखने के लिए बहुत बहुत अभिनन्दन और हार्दिक बधाई ! साइकिल की सवारी करना निसन्देह स्वास्थ्य के लिए बहुत हितकर है, लेकिन साइकिल को वोट देना समाज और देश के लिए हितकर नहीं है ! फिर शुरू होगा बंटना, वही पुराना जातिवाद और साम्प्रदायिक तुष्टिकरण का जहर ! उधारी पर मांग के आजकल साइकिल चलाना सिख रहे हैं युवराज ! डर है कि साईकिल को ले जाके किसी गहरी खाईं में न गिरा दें ! अल्लाह खैर करें..

    yamunapathak के द्वारा
    February 15, 2017

    आदरणीय सद्गुरु जी सादर नमस्कार अज़ीब अफरा तफरी मची है ..इधर दक्षिण में तमिलनाडु ..उधर अन्य राज्यों में चुनाव …इन सब के बीच देश कहाँ है समझ ही नहीं आ रहा है .आपकी टिप्पण्णी के लिए अतिशय आभार . साभार

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
February 4, 2017

निष्छल ,निर्मल ,सुगम ही हो चुकी है यमुना ..सहजता से आम पाठक द्वारा समझा जा सकने वाला व्यंग्य सराहनीय है । अभिनंदन ..ओम शांति शांति

    yamunapathak के द्वारा
    February 5, 2017

    आदरणीय हरिश्चन्द्र जी ब्लॉग पर आने और प्रेरणात्मक प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार

Bhola nath Pal के द्वारा
February 4, 2017

आप भूल गयीं आगरा से इटावा साइकल ट्रेक भी बन गया है .मौज की सबारी है साइकल .पांच वर्ष तक मौज ही चली है .जैसा करोगे वैसा भरोगे . यह अभिनन्दन या क्रंदन है ?सोच सोच पगलाए मन …….सादर

    yamunapathak के द्वारा
    February 5, 2017

    आदरणीय सर जी सादर नमस्कार सच है साइकिल की सवारी सुपर है …देखें कहाँ तक जाती है आपका बहुत बहुत आभार

jlsingh के द्वारा
February 2, 2017

आदरणीया यमुना जी, सादर अभिवादन! जीवन में फुर्सत के चंद लम्हे- खुशी से जी लें! जीने की कला में भी राजनीति और राजनीति तो है ही ‘कलाबाजी’ का नाम! देखा जाय यह सफर हंसते हस्ते काटता है या गिर कर चोट लगाने की संभावना है! आपकी लेखन शैली ! गजब की है! सादर!

    yamunapathak के द्वारा
    February 5, 2017

    आदरणीय जवाहर जी सच कहा आपने राजनीति की कलाबाज़ी वाह वाह …ब्लॉग पर आने का बहुत बहुत शुक्रिया आपका बहुत बहुत आभार


topic of the week



latest from jagran