Aatamaabhivyakti

extremely CRUDE ; completely PURE

247 Posts

3101 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9545 postid : 853202

सात रंग ;सात सुर,

Posted On: 16 Feb, 2015 Others,Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अंक सात का महत्व सात फेरे ;सात वचन तो है ही पर इस अंक का कई अन्य महत्व भी है…….

1)संगीत में सात सुर                               सा रे ग माँ प् ध नि
2)सप्ताह में सात दिन                             सोम मंगल बुध गुरू शुक्र शनि रवि
३3सात महासागर                                  हिन्द प्रशांत अंध उत्तर दक्षिण अरब भूमध्य
4) सप्त सिंधु                                          सिंधु परुष्णी शतुद्री वितस्ता यमुना गंगा सरस्वती
5)सात पुरियां                                       अयोध्या मथुरा हरिद्वार काशी कांची उज्जयिनी द्वारकापुरी
6) सप्तऋषि                                              मरीचि अत्रि अंगिरा पुलस्त्य पुलह क्रतु वशिष्ठ
7)सात चिरजीवी                                   अश्वथामा बलि व्यास हनुमान विभीषण कृपाचार्य परशुराम
8)सात नियम                                       मौन योगासन योग तितिक्षा एकांतशीलता निःस्पृहता समता
(सन्यासियों के लिए )
9)सप्त धातु                                                  सोना चांदी ताम्बा पीतल लोहा जस्ता (त्रपु) शीशा
10) सात प्राण                                                कान त्वचा नेत्र रसना घ्राण वाणी मन
11) सात मोह या अज्ञान                              बीज जाग्रत अवस्था ,जाग्रत ,महाजाग्रत ,जाग्रत स्वप्न ,स्वप्नावस्था ,सुषुप्ति
12)विद्या वन में सात पर्वत                            तेज ,अभयदान ,अद्रोह ,कौशल ,अचपलता ,अक्रोध ,प्रिय वचन

13)सप्त धन्य                                          जौ ,गेहूं ,मूंग ,तिल ,धान ,उड़द ,कोदो
14) सप्त स्नान                            मंत्र स्नान ,भौम स्नान (मिट्टी से),अग्नि स्नान (भस्म से),वायव्य स्नान(गाय के खुर की धूलि से),दिव्या स्नान(सूर्य से)वारुण (जलसे) ,मानसिक स्नान(आत्मचिंतन)
15) सात जो पृथ्वी धारण करते हैं ……            गौ ,ब्राह्मण (विद्वान सदाचारी),वेद ,सती स्त्री ,सत्यवादी पुरूष ,लोभहीन,दानशील
16) सात विशेषताएं जिसे राजा संज्ञान में रखे                      गुरू , मित्र,दुर्ग,राष्ट्र कोष सेना दुश्मन
17)सात व्यसन (बुरी आदत)                                               वाणी की कठोरता,धन का अपव्यय ,मद्यपान स्त्री मृगया द्यूत
18)सात तामसी स्वाद                                                          कड़वा ,खट्टा,लवणयुक्त ,अति गरम ,तीक्ष्ण, रूखा ,दाहकारक
19) सात रंग                                                                            शुक्ल,रक्त,कृष्णा,धूम्र,पीत,कपिल ,पाण्डुर
20)सप्त गोत्र                                                                               पिता,माता,बहन,पत्नी,पुत्री ,बुआ,मौसी

संकलित



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

18 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
February 21, 2015

प्रिय यमुना जी कितनी मेहनत की है आपने उसको नमश्कार करती हूँ में तो इस दिशा में सोच भी भीं सकती शोभा

    yamunapathak के द्वारा
    February 23, 2015

    शोभा जी यह बस एक संकलन है अच्छा लगा तो लिख दी थी अपनी शादी की साल गिरह पर पोस्ट किया था आपका बहुत बहुत धन्यवाद साभार

munish के द्वारा
February 19, 2015
    yamunapathak के द्वारा
    February 19, 2015

    मुनीश जी बहुत बार रिप्लाई पोस्ट करने की कोशिश की फ़ैल हो जा रही थी आपका ब्लॉग पढ़ा मैंने बहुत संवेदनशीलता से प्रस्तुत किया है आपने .पढ़ना बहुत अच्छा लगा साभार

    yamunapathak के द्वारा
    February 19, 2015

    योगी जी आपका बहुत बहुत आभार

OM DIKSHIT के द्वारा
February 19, 2015

आदरणीया यमुना जी,नमस्कार. ज्ञानवर्धक प्रस्तुति.

    yamunapathak के द्वारा
    February 19, 2015

    ओम प्रकाश जी अतिशय धन्यवाद आपका

deepak pande के द्वारा
February 18, 2015

सुन्दर लेख आदरणीय यमुना जी ISI PRAKAR KABHEE NAU KE ANK का भी महत्वा पर प्रकाश डालियेगा

    yamunapathak के द्वारा
    February 18, 2015

    दीपक जी आपका बहुत बहुत धन्यवाद मैं नवरात्र पर इस अंक के महत्व पर अवश्य लिखूंगी नौ का आपके जीवन में अवश्य कोई न कोई महत्व है इस तारीख के लिए आपको बहुत सारी शुभकामना साभार

sadguruji के द्वारा
February 17, 2015

आदरणीया यमुनापाठक जी ! रोचक विवरण देने के लिए अभिनन्दन और बधाई ! आध्यात्म में भी सात आसमान और सात आध्यात्मिक मंडलों का जिक्र है, आज्ञाचक्र, सहस्रार, त्रिकुटी, सुन्न, महासुन्न, भँवरगुफा, सत्यलोक ! दिलचस्प और संग्रहणीय प्रस्तुति के लिए सादर आभार !

    yamunapathak के द्वारा
    February 17, 2015

    सद्गुरू जी एक कड़ी और जोड़ने का बहुत बहुत आभार .

surendra shukla bhramar5 के द्वारा
February 17, 2015

आदरणीया यमुना जी बहुत सुन्दर रही सात की महिमा ….बधाई …ज्ञानवर्धन हेतु भ्रमर ५

    yamunapathak के द्वारा
    February 17, 2015

    भ्रमर जी आपका बहुत बहुत आभार

pkdubey के द्वारा
February 17, 2015

बहुत गहन प्रस्तुति आदरणीया ,हमारे लिए भी ७ का अंक बहुत महत्त्वपूर्ण है,हम दोनों पिता-पुत्र २५ को ही जन्मे |

    yamunapathak के द्वारा
    February 17, 2015

    दुबे जी यह बहुत सुन्दर अंक है साभार

jlsingh के द्वारा
February 17, 2015

और अंत मे आपके सात फेरे और सात वचन वाले दिन १६ फरवरी की हार्दिक शुभकामनाएं …सात जन्मों तक यह सम्बन्ध अटूट रहे, सप्त सिंधु में गोते लगते रहें… बहुत बहुत अभिनंदन और शुभकामनाएं आदरणीया यमुना जी!

    yamunapathak के द्वारा
    February 17, 2015

    आदरणीय जवाहर जी नमस्कार आपकी भेजी शुभकामना के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद . साभार c


topic of the week



latest from jagran